Fashion

स्पिरुलिना - दि सुपर फ़ूड - 7 Health Benefits of Spirulina

प्रकृति ने हमें देन के रूप में बहुत सी जड़ी-बूटियां दी है। आयुर्वेद में इन्हीं जड़ी बूटियों का उपयोग किस प्रकार किया जाय ताकी, स्वस्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को दूर किया जाता है। आज हम इन् जड़ी बूटियों - यानी हर्ब की दुनिया में से एक हर्ब स्पिरुलिना के बारें में जानेगे तथा इसके उपयोग के बारे में चर्चा करंगे | 

दि सुपर फ़ूड, जी हाँ स्पिरुलिना को हम नाम से भी जाना जाता है। एक कम्पलीट फ़ूड सोर्स होने के कारण इसको इस उपाधि से नवाजा गया है। स्पिरुलिना, एक बेहतरीन डायट्री सप्लीमेंट है, जिसे आप टेबलेट और पाउडर के रूप में आसानी से अपने नजदीकी बाजार में प्राप्त कर सकते है। स्पिरुलिना विटमिन ऐ का बेहतरीन स्रोत है और इसमें प्रोटीन भी प्रचुर मात्रा में मिलता है। इसमें प्रोटीन की मात्रा मीट में मिलने वाली मात्रा से लगभग पांच गुना ज्यादा पाया जाता है। इन सबके अलावा इसमें मिनरल्स की भी कोई कमी नहीं है। इसमें कैल्शियम, सिलेनियम, पोटेशियम, जिंक आदि प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। विटमिन श्रेणी की बात करें तो आप इसका सेवन कर विटमिन B1, B2, B3, B6 की कमी के परेशानी से भी छुटकारा मिलता है | 

स्पिरुलिना में जरुरी फैटी एसिड जैसे गामा लिनोलेनिक एसिड जीएलऐ, लिनोलेनिक एसिड, एल्फा लिनोलेनिक एसिड एएलए, भी बहोत अधिक मात्रा में पाए जाते है।

स्पिरुलिना का सेवन करने से -

  1. स्ट्रोक की गंभीरता में कमी आती है।
  2. वजन बढ़ने में मदद मिलती है।
  3. एनीमिया को दूर करने में मदद मिलती है।
  4. किमो थेरपी के कारण होने वाले हृदय को नुकसान से बचाता है।
  5. बढती उम्र में मैमोरी लोस नहीं होता है।
  6. हे फीवर से बचाव हो सकता है।
  7. कोलेस्ट्रोल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायता मिलती है।

इसका सेवन करने से बचे, यदि -

  1. आप हायपर पैरा थायरोडिजम के रोगी है।
  2. आपको सी फ़ूड या सी वीड से एलर्जी हो।
  3. बहुत तेज बुखार हो।

साइड इफेक्ट -

आमतौर पर इस हर्बल का सेवन करने पर कोई साइड इफेक्ट देखने को नही मिलता है। मगर कुछ लोग को इसका सेवन करने पर हल्का बुखार महसूस हो सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योकि शरीर को प्रोटीन को बर्न करने के लिए अतिरिक्त एनर्जी की जरुरत होती है। इसके अलावा थोडा चक्कर आना, उलटी आना, स्किन पर रैशेज पड़ना, प्यास लगना, कब्ज की समस्या होना, और पेट में दर्द होने जैसे कुछ लक्षण भी देखने को मिल सकते है।

ध्यान दे -

स्पिरुलिना का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के न करे|  इसलिए हमेसा डॉक्टर द्वारा बताई गयी समय पर ही इसका सेवन करें। ओवर डोज के कारन शरीर में हाई प्रोटीन के कारन यूरिक एसिड बढ़ सकता है और लीवर को नुकसान पंहुचा सकता है।

एक बात का विशेष ध्यान रखे कि इसका सेवन करने पर आपको सामान्य दिनों की तुलना में ज्यादा पानी पीना चाहिए। ज्यादा यानी करीब एक से आधा लिटर ज्यादा पानी अवश्य पिए। इसका चाय, काफी, जूस और साफ्ट ड्रिंक के साथ सेवन न करें। इसका सेवन करने से शरीर के एंजाइम और स्पिरुलिना के पोषक तत्व नष्ट हो सकते है।

दोस्तो आसा करता हूँ की हमने यहाँ पर स्पिरुलिना से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त कर ली है, और अब हम स्पिरुलिना का सेवन सही समय और सही तरीके से करेंगे धन्यवाद। ... 

Post a Comment

0 Comments