Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

प्राकृतिक रूप से रोग प्रतिरोधक शक्ति को कैसे बढ़ाये | How to Boost Immunity Power in the Body Naturally

जैसा की हमारे बुज़ुर्गो ने कहा है की स्वास्थ्य ही मनुस्य का सबसे बड़ा धन होता है | हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक शक्ति का होना बहुत महत्वपूर्ण है।आखिरकार, यदि आप जीवन का आनंद नहीं ले सकते हैं, तो इस सभी अर्जित धन का उपयोग क्या है? और अच्छे स्वास्थ्य के बिना जीवन का आनंद कौन ले सकता है? आयुर्वेद में इम्युनिटी बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है। यह किसी भी तरह की एलर्जी होने का डर होने के बिना स्वस्थ और फिट रहने का प्राकृतिक प्रतिरक्षा बूस्टर है। आइए इसके बारे में अधिक समझते हैं।



आइये जानते है की आयुर्वेद है क्या:

जैसा की हम सभी जानते है की प्राचीन काल में बड़े से बड़े रोग का इलाज आयुर्वेद से ही किया किया जाता था | आयुर्वेद ऐतिहासिक भारतीय जड़ों के साथ चिकित्सा उपचार की एक प्राचीन प्रणाली है। और इसमें कई उपचार शामिल हैं। जैसे की पंचकर्म, योग, शरीर का मालिश, जड़ी बूटी की दवाइयां, प्राणायाम, ध्यान इत्यादि | अगर हम सरल शब्दों में कहें तो यह स्वास्थ्य देखभाल का सुव्यवस्थित और पारंपरिक तरीका है। यह लगभग 3000 साल पुराना है। 

आयुर्वेद के फायदे क्या हैं?

ऐसा नहीं है कि आप आयुर्वेद का उपयोग केवल तभी कर सकते हैं जब आप किसी बीमारी से से लड़ रहे हों। आयुर्वेद को अपनाने के और भी कई फायदे हैं। 
आइये आयुर्वेद के फायदों के कुछ बिन्दुओ को जानते है | 

१:- पहला और सबसे अच्छा लाभ यह है कि आप स्वस्थ वजन घटाने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

२:-अगली बात यह है कि आप नियमित प्राणायाम और योग के कारण स्वस्थ और चमकती त्वचा पा सकते हैं। इसके अलावा, बहुत सारी जड़ी-बूटियाँ हैं जो आपको इस लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं।

३:- परेशानी से भरी इस दुनिया में आप नियमित रूप से प्राणायाम करते हैं तो चिंता और तनाव से छुटकारा पा सकते हैं।

४:- नियमित रूप से उपयुक्त जड़ी बूटियों का सेवन करने से यह हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है और कई अवांछित बीमारियों से हमे बचती है | 

५:- आयुर्वेद में कुछ हर्बल उपचार उपलब्ध हैं जो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने का काम करते हैं।

सरल शब्दों में कहे, तो आयुर्वेद हमारे जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाने में मदद करता है। और इसे लागू करना और अनुकूलित करना बहुत आसान है।


क्या आयुर्वेद का कोई दुष्प्रभाव है?

अब आप सोच रहे होंगे कि आयुर्वेद का कोई साइड-इफेक्ट है या कोई आयुर्वेदिक इलाज? जवाब न है"। यह 100% साइड-इफ़ेक्ट फ्री है। लेकिन हां, यदि आप एक ही समय में किसी भी जड़ी-बूटी और अन्य पारंपरिक दवाओं को ले रही हैं, तो यह आपके लिए परेशानी का सबब बन सकता है। ऐसा करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

तो यह था आयुर्वेद का आधार। दुनिया भर में बहुत से लोग इस विज्ञान का अनुसरण करते हैं। और परिणाम भी अच्छा है। तो आप इस अद्भुत उपचार के बारे में कुछ और चीजें सीखकर अपने दिनचर्या के जीवन में महत्वपूर्ण बातें जोड़ सकते हैं।


आयुष मंत्रालय द्वारा प्रदान किए गए दिशानिर्देश:

आयुष मंत्रालय निवारक स्वास्थ्य उपायों के लिए निम्नलिखित स्व-देखभाल दिशानिर्देशों को जारी करता है और स्वास्थ्य निवारक के लिए विशेष संदर्भ के साथ प्रतिरक्षा को बढ़ाता है। ये आयुर्वेदिक साहित्य और वैज्ञानिकों के सलाह से तैयार किया जाता है | 

१:- सामान्य उपाय:

  • पूरे दिन गर्म पानी पिएं.
  • आयुष मंत्रालय की सलाह के अनुसार योगासन, प्राणायाम का अभ्यास और कम से कम 30 मिनट तक ध्यान करें.
  • खाना पकाने में हल्दी (हल्दी), जीरा (जीरा), धनिया (धनिया) और लहसून (लहसुन) जैसे मसालों का इस्तेमाल करे.


२:- आयुर्वेद की मदद से इम्युनिटी को बढ़ावा देने के उपाय: 

  • सुबह च्यवनप्राश 10 ग्राम (1tsf) लें। मधुमेह रोगियों को शुगर फ्री च्यवनप्राश लेना चाहिए।
  • तुलसी (तुलसी), दालचीनी (दालचीनी), कालीमिर्च (काली मिर्च), शुंठी (सूखी अदरक) और मुनक्का (किशमिश-सौंठ) से बना हर्बल चाय / काढ़ा (कढ़ा) दिन में दो बार पियें। यदि आवश्यक हो तो गुड़ / या ताजा नींबू का रस अपने स्वाद में जोड़ें।
  • 150 मिली गर्म दूध में आधा चमच्च हल्दी पाउडर दिन में दो बार सेवन करे | 


३:- सरल आयुर्वेदिक प्रक्रियाएं:

  • नाक का अनुप्रयोग -सुबह तिल और नारियल का तेल या घी दोनों नथुने में सुबह-शाम डाले | 
  • तेल खींचने वाली थेरेपी - एक चम्मच तिल या नारियल का तेल मुंह में लें। और इसे 2 से 3 मिनट तक के लिए मुंह में घुमाएं और इसे थूक दें, इसके बाद गर्म पानी से कुल्ला करें। यह दिन में एक या दो बार किया जा सकता है।

४:- सूखी खांसी / गले में खराश के दौरान:

  • ऐसे में ताजे पुदीना के पत्तों या अजवाईन का सेवन दिन में एक बार जरूर करे | 
  • लवंग पाउडर को चीनी / शहद के साथ मिलाकर दिन में 2-3 बार सेवन करे, खांसी या गले में जलन होने पर लिया जा सकता है।
  • ये उपाय आम तौर पर सामान्य सूखी खांसी और गले में खराश का इलाज करते हैं। हालांकि, इन लक्षणों के बने रहने पर डॉक्टरों से सलाह करना सबसे अच्छा है।
अब जब आप आयुर्वेद के सभी अविश्वसनीय लाभों को जानते हैं, तो इसका सेवन करने से खुद को मना न करें। आशा करता हु आपको यह ब्लॉग पसंद आया होता धन्यवाद्... 

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ

  1. Bet365 Casino & Promos 2021 - JTM Hub
    Full list of Bet365 Casino & kadangpintar Promos septcasino.com · Up to £100 in Bet Credits for nba매니아 new customers at bet365. Min deposit £5. Bet Credits available for use upon settlement of bets to worrione value 출장안마 of

    जवाब देंहटाएं
  2. I really liked it 스포츠토토. I wanted to leave a note. I was reading your website. I also tried to share the site 메이저토토사이트 . You can learn about going back to life there before you 온라인카지노. If you are interested 바카라사이트, please check it out 토토사이트. Thank you 토토사이트링크!

    जवाब देंहटाएं